Rajasthan Loan Waiver 2019

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा कर्ज माफी की घोषणा हो चुकी है। इसके अनुसार किसान द्वारा राष्ट्रीय, वाणिज्यिक और ग्रामीण बैंकों से लिया गया कर्ज लगभग ₹2,00,000 माफ होगा। जिन किसानों का ऋण माफ होना है उन्हें  ग्राम सेवा सहकारी समिति द्वारा किसानों के खाता, आधार, भामाशाह कार्ड के अलावा कई जानकारी जमा करानी होगीं। इसके बाद किसानों की सूची को संबंधित बैंक द्वारा चुने हुए लोगों को सूची भेजी जाएगी।


सरकार द्वारा जारी किया गया शासनादेश

राजस्थान कर्ज माफी की मुख्य बातें

  • सिर्फ फसल या खेती के लिए लिया गया कर्ज ही माफ होगा।
  • कृषि यंत्रों पर लिया हुआ कर्ज माफ नहीं होगा।
  • सहकारी बैंकों से लिया हुआ सारा कर्ज माफ होगा।
  • प्राइवेट बैंकों से लिया गया कर्ज माफ नहीं होगा
  • राष्ट्रीयकृत, ग्रामीण, वाणिज्यिक बैंकों से लिए गए कर्ज माफ़ होगा।
  • 31 नवंबर 2018 तक का कर्ज माफ किया जाएगा।
  • उन किसानों का कर्ज माफ नहीं होगा जिनके पास 2 एकड़ से अधिक खेती है।
  • जो किसान राष्ट्रीय बैंकों से डिफाल्टर होंगे उनका कर्ज माफ किया जाएगा।

किसानों द्वारा फसल के लिए व्यवसायिक बैंकों से 1 साल या 6 महीने के लिए दिए गए कर्ज को अल्पकालीन कर्ज कहते हैं।  इसमें 4% का ब्याज होता है जिसमें 3% का ब्याज का अनुदान  केंद्र सरकार देती  है और सहकारी बैंकों में छह माह के लिए फसली कर्ज बिना ब्याज के दिया जाता है।

ऋण माफ़ी आवेदन की स्थिति: क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.